सोमवार, 31 जनवरी 2022

324-गुलाबी सपने

 डॉ.कविता भट्ट 'शैलपुत्री'



8 टिप्‍पणियां:

  1. व्यवस्था का नंगा सच बयान करती लघुकथा। साधुवाद आपको।

    जवाब देंहटाएं
  2. भ्रष्ट तंत्र के विरुद्ध संघर्ष चेतना को जागृत करती सुंदर लघुकथा।शीर्षक बहुत ही प्रतीकात्मक।बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  3. भ्रष्टाचार के विरुद्ध संघर्ष की अलख जगाती इस लघुकथा के लिए बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. ये कहानी मैंने पहले भी कहीं पढ़ी है। भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाली कहानी के लिए बहुत बधाई।
    @ डॉ हरदीप सन्धु

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया लघुकथा...बहुत-बहुत बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  6. अति सार्थक अभिव्यक्ति...लेखनी से अधिक प्रभावी कुछ नहीं होता... कदाचित परिवर्तन आ पाए.... अति सुंदर आद. कविता जी 🙏🌹🙏🌹

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही सुंदर सार्थक अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं