गुरुवार, 24 जून 2021

254-हरियाली और पानी

 डॉ.कविता भट्ट 'शैलपुत्री'



13 टिप्‍पणियां:

  1. बेटी कविता ! आपकी लिखित समीक्षा श्री काम्बोज जी की बच्चों की पुस्तक "हरियाली और पानी" मैंने बड़े ध्यान से पढ़ी और जिस प्रकार से इस लघु पुस्तिका पर अपने विचारों से प्रकाश डाला है |आपने इसकी महत्ता का जो सार प्रस्तुत किया है वास्तव में अनुकरणीय है और प्रशंसनीय है | मेरा विश्वास है कि लोग अधिक से अधिक इस पुस्तक को अपने बचों के प्रयोग में लायेंगे | विशेष रूप से शिक्षा के मन्दिरों में इसे स्थान देंगे | श्याम हिन्दी चेतना

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर सार्थक समीक्षा...हार्दिक बधाई आपको।

    जवाब देंहटाएं
  3. सार्थक समीक्षा। बच्चों के लिए उपयोगी पुस्तक। आप दोनों को हार्दिक बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  4. सुंदर, सारगर्भित समीक्षा! हार्दिक बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  5. सुंदर, सारगर्भित समीक्षा! हार्दिक बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर सटीक सारगर्भित समीक्षा। हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत विस्तृत और सुंदर समीक्षा!हार्दिक बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  8. हरियाली और पानी बालको के लिये बहुत उपयोगी पुस्तक है,डॉ. कविता भट्ट जी ने बहुत सुंदर समीक्षा की है,पुस्तक के संदर्भ में उनका यह कथन सर्वथा सत्य है -'यह पुस्तक पर्यावरण की प्राथमिक पाठशाला है'-सुंदर समीक्षा हेतु कविता जी को बधाई।

    जवाब देंहटाएं

  9. सुंदर व सारगर्भित समीक्षा!
    हार्दिक बधाई प्रिय कविता जी।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर और सार्थक समीक्षा।
    हार्दिक बधाई आदरणीया।

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  11. इस पुस्तक को पूरे देश के विद्यालयों में अनिवार्य कर देना चाहिए. पानी और पर्यावरण से ही दुनिया क़ायम है, बच्चों को यह पढना और समझना ज़रूरी है. पुस्तक के लिए आदरणीय काम्बोज भाई को बधाई. सार्थक समीक्षा के लिए कविता जी को बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  12. एक बेहद ही अनिवार्य मुद्दा है- हमारा पर्यावरण और पानी | इस विषय से हमारे बच्चे जितनी जल्दी और जितनी सरलता से परिचित हो सकें, उतना ही अच्छा | एक बेहद अच्छी और सार्थक पुस्तक की बहुत बेहतरीन समीक्षा की है आपने, मेरी हार्दिक बधाई आदरणीय काम्बोज जी को और आपको |

    जवाब देंहटाएं