रविवार, 8 नवंबर 2020

175-तू प्रेमघन

डॉ.कविता भट्ट 'शैलपुत्री'


1


शुष्क पवन
मरुभूमि जीवन
तू प्रेमघन।

2

जग -जंजाल

झूठा यह मधुदेश

तुम विशेष।

3

तोड़ो बन्धन

करो तो आरोहण

जग-क्रन्दन।

4


प्रेम-प्रस्तर

अडिग रह बने

शैल -शिखर।

5

तू हिमधर

पवन झकोरों में

खड़ा निडर।

 


15 टिप्‍पणियां:

  1. मर्मस्पर्शी ! मुक्तछंद , गांभीर्य पूर्ण । रचना तथा कविता जी को साग्रह शुभेच्छा प्रेषित।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 09 नवंबर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. एक से बढ़कर एक हाइकु
    बहुत सुंदर
    हार्दिक बधाइयाँ

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत-बहुत सुन्दर सभी हाइकु ।बधाई कविता जी।

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह! मधुरम, सुंदरम!!!! हाइकू 👌👌👌👌

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर हाइकु हैं बधाई
    पुष्पा मेहरा

    जवाब देंहटाएं
  7. Casino - Bracket betting guide for your chance to win
    The Casino is a unique casino https://septcasino.com/review/merit-casino/ that has been https://octcasino.com/ around for over a decade. It has managed https://septcasino.com/review/merit-casino/ to offer great 도레미시디 출장샵 games such as Blackjack, Roulette and Video Poker,

    जवाब देंहटाएं