रविवार, 15 नवंबर 2020

177- नदी के आगोश में

डॉ कविता भट्ट 'शैलपुत्री'

1


लिपटा वहीं

घुँघराली लटों में

मन निश्छल,

चाँद झुरमुटों में

न भावे जग-छल ।

 2

ढला बादल

नदी के आगोश में

हुआ पागल

लिये बाँहों में वह

प्रेमिका -सी सोई।

3

मन वैरागी

निकट रह तेरे

राग अलापे,

सिंदूरी सपने ले

बुने प्रीत के धागे।

4

मन मगन

नाचता मीरा बन

इकतारे -सा

बज रहा जीवन

प्रीत नन्द नन्दन!

5

रवि -सी तपी

गगन पथ  लम्बा

ये प्रेमपथ ,

है बहुत कठिन 

तेरा अभिनन्दन!


13 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद सुन्दर एवं भावपूर्ण।
    बहुत बहुत बधाई आदरणीया।
    दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    सादर।

    रश्मि विभा त्रिपाठी 'रिशू'

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज रविवार 15 नवंबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचनाएँ कविता जी।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर सारगर्भित रचना बधाई

    जवाब देंहटाएं
  5. प्रकृति के साथ भावों का वर्णन..सुंदर अभिव्यक्ति..।

    जवाब देंहटाएं
  6. पढकर मन पुलकित हो गया इतनी सुंदर मधुर कल्पनाओं के साथ प्रकृति की गोद में | अति सुंदर -श्याम हिन्दी चेतना

    जवाब देंहटाएं
  7. एक से बढ़कर एक ....
    बहुत ही सुंदर एवं भावपूर्ण ताँका
    नदी के आगोश में ...प्रेमिका -सी सोई -बहुत ही सुंदर

    सुंदर सृजन के लिए हार्दिक बधाइयाँ स्वीकार करें

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण ताँका, बधाई कविता जी.

    जवाब देंहटाएं
  9. बेहद ख़ूबसूरत सृजन कविता जी,बहुत-बहुत बधाई आपको!

    जवाब देंहटाएं