सोमवार, 3 दिसंबर 2018

95- मित्रता


ज्योति नामदेव

एक दिवस की बात,
चारों ओर संग्राम,
संग्राम में दोनों ओर की,
सेना निरंतर थी लड़ रही.
तभी मधुसूदन की उँगली  में चोट लगी,
बह निकली रक्त की धार,
द्रौपदी ने देखा तो,
हुई द्रवित ह्रदय- सार l

ना उधर देखा, ना इधर देखा,
झट फाड़ा अपना अंग वस्त्र,
एक टुकड़ा बस उस अम्बर का,
बाँधा उसने पूरे विश्व को l

देखा द्वारकाधीश ने
तो बोले.. हे सखी
यह क्या किया तुमने?
क्यों फाड़ा तुमने इस चीर को?
सखी परेशान न हो,
कुछ ना होगा इस वीर को l

द्रौपदी बोली.. शान्त रहिए मधुसूदन
जानती हूँ, आप हैं इस जगत् के जीवन,
लेकिन सामने बहती धार ये कैसे देखूँ
जो सबके जीवन के आधार
उसका ही रक्त बहे, ये कैसे देखूँ ?

छोड़ो सखी... चिंता करो अब,
बाँध लिया तुमने ऋण में मुझे अब,
समय साथ देगा तो बताना है ऐसा,.
कि मित्रता भाव होता है कैसा l

समय चक्र बड़ा,
काल का पहिया चला,
चौरस व्यूह मे शैतानी जंग,
हार गए सब कुछ कौरवों से, पांडव बस रह गए दंग l

भृकुटी तनी थी, दुर्योधन की
विनाश काले विपरीत बुद्धि,
अन्धकारमय सारा हस्तिनापुर,
अंतर्मन बिलख-बिलखकर रो रहा मन l

मौके का फायदा उठा,
केश पकड़ते खींचता दु:शासन,
द्रौपदी को धरती पर घिसटते चला,
हाय हाय ये क्या हो रहा,
इस धरती पर स्त्री का,
चीर हरण हो रहा l

हा हा हा!! हँसते कौरव,
इस भयानक कृत्य पर,
प्रसन्नचित्त होते कौरव,
लगा खींचने दु:शासन द्रौपदी की साड़ी
हाय हाय हस्तिनापुर आज
तुझे क्या लाज नहीं आई?

थी सभा सन्न,
सबके मुख थे सिले हुए,
क्या पांडव, क्या भीष्म,
क्या बड़े, क्या छोटे,
धरती में जैसे पग थे
ड़े हुए l

जैसे ही द्रौपदी ने कृष्ण का
ह्वान किया,
उसे द्रवित ह्रदय से पुकारा,
उनको तो आना ही पड़ा l

दु:शासन खींचता चला, खींचता चला, खींचता चला,
पर य क्या?
साड़ी है या अनंत आकाश
जो कभी खत्म  न हुआ l

धराशायी हुआ दु:शासन,
नीची दृष्टि गड़ा दुर्योधन,
आज सती को चले लूटने,
उनका ही टूटा अभिमान l

जिसकी रक्षा की सौगंध ली
थी पांडवों ने
उसकी रक्षा की निश्छल
मित्रता ने

मित्रता एक भाव
प्रेम का,
मित्रता नाम है
सुन्दर मन का l

प्रसंग नहीं
यह सत्य है
निर्लज्जों की हुई हार
ये शाश्वत सत्य है
-0-
सहायक अध्यापिका ,राजकीय प्राथमिक विद्यालय ,कर्णप्रयाग  चमोली ,उत्तराखंड

16 टिप्‍पणियां:

  1. सारगर्भित कविता, आज मित्रता का दम भरने वालों को इस प्रसंग से शिक्षा लेनी चाहिए। मित्रता का अर्थ है मित्र का हर स्थिति में सम्मान । हार्दिक बधाई ज्योति जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार आदरणीय रामेश्वर कामभोज हिमांशु जी

      हटाएं
  2. मेरी सबसे प्रिय सहेली,
    तुम्हारे ये सारगर्भित कविताएं हमेशा से मुझे अचंभित कर देती हैं कि,क्या ये प्रशंशनीय सृजन हमारी हुलड़ ज्योति द्वारा किया गया है?
    अनंत प्यार और शुभकामनाएं मेरी हुलड़ सखी तुमको सदैव आगे बढ़ने के लिए।
    तुम्हारी ये रंचना सदैव दोस्ती के प्रेम को प्रगाढ़ करने के लिए चरणामृत बनेगी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपने प्रिय शब्दों से गौरवान्वित कर दिया आपने हार्दिक धन्यवाद

      हटाएं
  3. ज्योति जी की कविता तो एक वीरांगना की कल्पना है | ज्योति शब्दों की शिल्पी हैं | एक चित्रकार हैं | जिन शब्दों से कसी के जख्म पर अपने आंचल के वस्त्र से उसके रक्त को बंद करके जो महाभारत की महान द्रोपदी की कथा को शब्दों की माला में पिरोया है ,अत्यंत प्रशंसनीय -पठनीय और विचारनीय है | हृदय स्पर्शी और मार्मिकता से गर्भित है | मेरी बहुत सारी शुभकामनाए ज्योति जी को ... श्याम त्रिपाठी हिन्दी चेतना

    जवाब देंहटाएं
  4. हार्दिक आभार डॉ भावना जी

    जवाब देंहटाएं
  5. हार्दिक आभार डॉ भावना जी

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर भाव, सुंदर शब्द।बधाई ज्योति जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक धन्यवाद सुदर्शन रत्नाकर जी

      हटाएं
    2. हार्दिक धन्यवाद सुदर्शन रत्नाकर जी

      हटाएं
    3. हार्दिक धन्यवाद सुदर्शन रत्नाकर जी

      हटाएं
  7. कृष्ण और द्रौपदी के मित्रता भाव को बहुत सुन्दर रूप से अभिव्यक्त किया है ज्योति जी ने. हार्दिक बधाई ज्योति जी.

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ही सुंदर थोड़े शब्दों समेंटकर लिखा

    जवाब देंहटाएं