मंगलवार, 30 जनवरी 2018

मैं हूँ सरस होंठों की छुवन

डॉ. कविता भट्ट  

 नग्न तरुवर मैं  हूँ नहीं
शरद में ठिठुरता विकल
जिजीविषा हूँ कोंपलों की-
मैं वसंत की प्रतीक्षा प्रबल ।
 अश्रु लेकर कल खड़ा था
पीत-पतझर की राह में  
सहलाएगा गर्म सूरज
 अब भरके अपनी बाँह में ।
 बर्फ अवसादों की थी जो,
अब हँसी से गल जाएगी
 ऊषा  अब उन्मुक्त है;
 शीत-निशा  ढल जाएगी ।
 किरणें कोमल पीठ पर जब
अपनी उँगलियाँ फेरेंगी
गुदगुदाती लिपट लूँगी
जब  तीखी हवाएँ  हेरेंगी ।
 मुक्त हूँ- जड़ बंधनों से
मैं हूँ सरस  होंठों की छुवन  
दिव्य-प्रेम पथ की नर्तकी हूँ
 थिरक-थिरक करती हूँ नर्तन।
 बाँधकर आशा के घुँघरू  
      मदमस्त अब जो पग धरे
गुंजित होंगे पर्वत-शिखर
      गाएँगे प्रेम-तरु  हरे-भरे।
 -0-


22 टिप्‍पणियां:

  1. जीजिविषा हूँ कोंपलों की-
    मैं वसंत की प्रतीक्षा प्रबल ।
    अश्रु लेकर कल खड़ा था
    पीत-पतझर की राह में
    सहलाएगा गर्म सूरज
    अब भरके अपनी बाँह में ।
    बर्फ अवसादों की थी जो,
    अब हँसी से गल जाएगी । ये पंक्तियाँ वसन्त और उसकी जिवीविषा का बहुत ही सुन्दर चित्रांकन करती हैं। बहुत बधाई इस अनुपम सौन्दर्य को आकार देने के लिए

    जवाब देंहटाएं
  2. सार्थक सृजन के लिए हार्दिक बधाई कविता जी ।

    जवाब देंहटाएं
  3. सार्थक सृजन के लिए हार्दिक बधाई प्रिय कविता जी ।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर रचना ।हार्दिक बधाई कविता जी

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुरत सुंदर सृजन कविता जी ! बहुत -बहुत बधाई आपको !!

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर कविता! हार्दिक बधाई कविता जी!

    ~सादर
    अनिता ललित

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही रोमांटिक पंक्तियां हैं कविता जी..... हृदयस्पर्शी। बहुत बहुत बधाई आपको

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर कथन। मैम बहुत बहुत बधाई हो।

    जवाब देंहटाएं
  9. कविता जी की कविता में एक नव जीवन का संदेश है | एक आशावादी लहर है | बार -बार पढने को मन करता है | इतने सुंदर भावों को का हृदय से स्वागत ! श्याम त्रिपाठी हिन्दी चेतना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार, महोदय, आपने उत्साहवर्धन किया/

      हटाएं
    2. हार्दिक आभार, महोदय, आपने उत्साहवर्धन किया/

      हटाएं
  10. किरणें कोमल पीठ पर जब
    अपनी उँगलियाँ फेरेंगी
    गुदगुदाती लिपट लूँगी
    जब तीखी हवाएँ हेरेंगी ।
    मुक्त हूँ- जड़ बंधनों से
    मैं हूँ नर्म होंठों की छुवन
    दिव्य-प्रेम पथ की नर्तकी हूँ
    थिरक-थिरक करती हूँ नर्तन। -इस कविता मेंं प्रत्येक शब्द जैसे अनुगूँज छोड़ जाता है। 'किरणें कोमल पीठ पर जब/अपनी उँगलियाँ फेरेंगी/गुदगुदाती लिपट लूँगी/जब तीखी हवाएँ हेरेंगी।' में जीवन की आश्वस्ति है। नर्म होंठों की छुवन वास्तव में हर जड़ बन्धन से परे होती है- मुक्त हूँ- जड़ बंधनों से/मैं हूँ नर्म होंठों की छुवन। ये ही कोंपलों की जिजीविषा हैं। आशा का संचार करने वाली कविता, गहन भावों के मोतियों के रूप में अनुस्यूत ।- रामेश्वर काम्बोज

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत ही सुंदर कविता
    आपकी लेखनी से निकली एक और मोती
    हार्दिक बधाई स्वीकार करें

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत ही सुंदर कविता
    आपकी लेखनी से निकली एक और मोती
    हार्दिक बधाई स्वीकार करें

    जवाब देंहटाएं
  13. हार्दिक आभार आपकी सुन्दर प्रतिक्रिया एवं टिप्पणी हेतु/

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत ही सुंदर कवि‍ता। बधाई

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर रचना
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत अच्छी कविता है...मेरी हार्दिक बधाई स्वीकारें...|

    जवाब देंहटाएं